Sun. Feb 5th, 2023
    हिजबुल मुजाहिदीन

    अमेरिका ने पाकिस्तान में स्थित आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन को अंतराष्ट्रीय आतंकवादी समूह घोषित कर दिया है। अमेरिका के इस कदम से पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है। इसके साथ ही भारत जैसे देश जो आतंकवाद के खिलाफ वर्षों से लड़ रहे हैं, उन्हें बड़ी कामयाबी मिली है।

    पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि अमेरिका द्वारा हिजबुल मुजाहिदीन को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी समूह घोषित करना दुखद है। साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस जकरिया ने दावा किया कि अमेरिका ने हमेशा पाकिस्तान के आतंकवाद-रोधी प्रयासों का स्वागत किया है। ऐसे में यह निर्णय ‘दुखद’ है।

    डॉन अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, जकरिया ने कहा कि कश्मीरियों के आत्मनिर्णय के अधिकार के लिए पिछले 70 सालों से संघर्ष चल रहा है।

    उन्होंने कहा कि पाकिस्तान-भारत संबंधों में प्रमुख मुद्दा कश्मीर है, ‘जिसका बातचीत से समाधान निकाला जाना चाहिए।’

    डॉन ने कहा कि हिजबुल मुजाहिदीन को ब्लैकलिस्ट करके अमेरिका ने पाकिस्तान पर अपना दवाब बढ़ाया है ताकि वह कथित तौर पर उसके क्षेत्र का इस्तेमाल करने वाले आतंकवादी समूहों पर शिकंजा कसे, जो सरहद पार अफगानिस्तान और कश्मीर में हमले करते हैं।

    अमेरिकी विदेश विभाग ने बुधवार को हिजबुल मुजाहिदीन को वैश्विक आतंकवादी संगठन घोषित कर अपने नागरिकों को इस संगठन के साथ किसी प्रकार के लेनदेन से रोक दिया।

    By पंकज सिंह चौहान

    पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।