दा इंडियन वायर » विदेश » यरूशलम मुद्दे पर अमेरिका का साथ नहीं देने वाले देशों को आर्थिक मदद बंद- डोनाल्ड ट्रम्प
विदेश

यरूशलम मुद्दे पर अमेरिका का साथ नहीं देने वाले देशों को आर्थिक मदद बंद- डोनाल्ड ट्रम्प

ट्रम्प ने हाल ही में अमेरिकी टैक्स कोड में हुए परिवर्तन के संदर्भ में कहा कि इससे हम अपने देश में करीब चार ट्रिलियन डॉलर वापस ला रहे है।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हैली की यरूशलम मुद्दे पर कड़ी मेहनत के लिए प्रशंसा की। साथ ही ट्रम्प ने उन सभी देशों को चेतावनी दी जिन्होंने यरूशलम मुद्दे पर अमेरिका के खिलाफ वोट किया था।

ट्रम्प ने साफ तौर पर कहा कि इन देशों को अब अमेरिका से किसी तरह का लाभ प्राप्त नहीं होगा। ट्रम्प ने व्हाइट हाउस में अपने मंत्रिमंडल के सदस्यों को बैठक के दौरान कहा कि ये देश अमेरिका से पैसा लेते है और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में हमारे खिलाफ ही वोट देते है।

भविष्य में उन्हें मिलने वाली आर्थिक मदद बंद करने का संकेत भी ट्रम्प ने दिया। गौरतलब है कि निक्की हैली ने सुरक्षा परिषद में वीटो पावर लगाया था लेकिन अब इस प्रस्ताव को संयुक्त राष्ट्र महासभा में भी स्थानांतरित किया जा रहा है, जहां पर कोई वीटो प्रावधान नहीं है। गुरूवार को इस संबंध में आपात बैठक होने वाली है। यहां पर भी अमेरिका के खिलाफ ही मतदान किए जाने की अपेक्षा है।

गौरतलब है कि जब से ट्रम्प ने यरूशलम को इजरायल की राजधानी घोषित किया है तब से ही अधिकतर देशों ने इस फैसले की कड़ी आलोचना की है। संयुक्त राष्ट्र में भी इस फैसले के खिलाफ आने वाले प्रस्ताव पर अमेरिका ने वीटो पावर का प्रयोग किया था।

अब राष्ट्रपति ने साफ तौर पर चेतावनी देते हुए कहा कि जिन देशों ने अमेरिका के खिलाफ मतदान किया है अब उनकी खैर नहीं है। ट्रम्प ने कहा कि हमसे करोड़ो-अरबों रूपए लेते है और हमारे खिलाफ ही बातें व मतदान कर रहे है।

चेन माइग्रेशन और वीजा लॉटरी कार्यक्रम होगा खत्म

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि वो जल्द ही चेन माइग्रेशन और वीजा लॉटरी कार्यक्रम को खत्म करेंगे। डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि वीजा लॉटरी कार्यक्रम से यहां आने वाले लोगों में कुछ लोग काफी बुरे होते है जो कि देश के लिए खतरा पैदा करते है। हम इस तरह के लोगों के समूह को और बर्दाश्त नहीं कर सकते है।

इसके अलावा ट्रम्प ने कहा कि पूरी दुनिया देख सकती है कि एक बार फिर अमेरिका तेजी व मजबूत तरीके से वापसी कर रहा है। ट्रम्प ने हाल ही में अमेरिकी टैक्स कोड में हुए परिवर्तन के संदर्भ में कहा कि इससे हम अपने देश में करीब चार ट्रिलियन डॉलर वापस ला रहे है। साथ ही वर्तमान कर कानून अमेरिकी कंपनियों को विदेशों में जमा पैसा वापस लाने में भी सुविधा प्रदान करेगा।

अमेरिका में कर सुधार बिल पारित होने पर डोनाल्ड ट्रम्प ने इसे ऐतिहासिक जीत बताई है। ट्रम्प ने कहा कि कड़ी मेहनत वाले अमेरिकियों के लिए यह एक अविश्वसनीय क्रिसमस उपहार के रूप में होगा।

 

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!