Thu. Jul 25th, 2024
    आतंकवाद अमेरिका पाकिस्तान

    अमेरिका की नई राष्ट्रीय सुरक्षा नीति की चीन के बाद अब पाकिस्तान ने भी आलोचना करते हुए इस पर सवाल उठाए है। अमेरिका की नई राष्ट्रीय सुरक्षा नीति में रूस, चीन व पाकिस्तान सहित कई इस्लामवादी देशों को खतरा बताया गया है। इस पर चीन के बाद अब पाकिस्तान ने अमेरिका को कहा कि उसके ऊपर आतंकवाद के लगाए गए आरोप पूरी तरह से निराधार है।

    पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में पाकिस्तान के घरेलू आतंकवादी समूहों के बारे में अमेरिका की चिंताओं को खारिज कर दिया है। साथ ही कहा है कि पाकिस्तान के ऊपर आतंकवाद संबंधित लगाए गए आरोप निराधार है और जमीनी स्तर पर ये तथ्य झूठे है।

    गौरतलब है कि अमेरिका की नई राष्ट्रीय सुरक्षा नीति में पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ प्रयासों को तेज करने के लिए कहा गया था। साथ ही पाकिस्तान के ऊपर आतंकवादियों को  सुरक्षित स्थान उपलब्ध कराए जाने का भी आरोप लगाया गया था। अमेरिका ने कहा था कि पाकिस्तान आतंकवाद के खात्मे के खिलाफ कोई ठोस कदम नहीं उठा रहा है।

    इस पर पाकिस्तान की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि अमेरिका की तरफ से पाकिस्तान पर लगाए गए इस तरह के आरोप आतंकवाद के खिलाफ हमारी लड़ाई व मेहनत को महत्वहीन बना रहे है।

    वैश्विक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में पाक आगे

    हम पाकिस्तान में आतंकवाद के खात्मा व शांति और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए बेजोड़ मेहनत व बलिदानी दे रहे है, लेकिन अमेरिका का ऐसा सोचना पाकिस्तान की ओर से आतंकवाद के खिलाफ जारी लड़ाई को नकार रहे है।

    पाक ने कहा है कि क्षेत्रीय और वैश्विक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में पाकिस्तान सबसे आगे रहा है और साथ ही अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ लगातार सहयोग कर रहा है।

    पाक ने अप्रत्यक्ष रूप से पडोसी देशों पर उसके क्षेत्र में आतंकवाद को वित्त-पोषित करने का आरोप लगाया है और कहा है कि कुछ देशों की वर्चस्व कायम रखने की नीतियां पाकिस्तान सहित दुनिया के कई हिस्सों में अस्थिरता के लिए जिम्मेदार है।

    पाक की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान के सुरक्षा बलों ने आतंकवाद आतंकवाद विरोधी अभियान चलाए है, जिससे पाकिस्तान को और अधिक स्थिर, शांतिपूर्ण और सुरक्षित देश बना दिया गया है।

    इसके साथ ही पाक ने उसके परमाणु हथियारों के बारे में अमेरिका की चिंताओं को खारिज कर दिया है। पाक ने कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ युद्ध खत्म नहीं हुआ है और इसके खिलाफ लड़ाई जारी रखने के लिए हम पूरी तरह से प्रतिबद्ध है।