दा इंडियन वायर » समाचार » Australian Open: एश्ले बार्टी ने इतिहास रचा, 44 वर्षों में अपना घरेलू ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पहली ऑस्ट्रेलियाई बनी
खेल विदेश समाचार

Australian Open: एश्ले बार्टी ने इतिहास रचा, 44 वर्षों में अपना घरेलू ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पहली ऑस्ट्रेलियाई बनी

Australian Open: एश्ले बार्टी ने इतिहास रचा, 44 वर्षों में अपना घरेलू ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पहली ऑस्ट्रेलियाई बनी

एश्ले बार्टी ने मेलबोर्न में रॉड लेवर एरिना में खेले गए ऑस्ट्रेलियन ओपन (Australian Open) फाइनल में आज इतिहास रच दिया है। 44 साल बाद, अपना घरेलू ग्रैंड स्लैम जीतने वाली वह पहली ऑस्ट्रेलियाई महिला बन गयी हैं, जिन्होंने निडर अमेरिकी डेनियल कॉलिन्स का स्पर्धा का सफर तीन सीधे सेट जीतकर रोक दिया। बार्टी ने ऑस्ट्रेलियन ओपन चैंपियन बनने के लिए 6-3, 7-6 (7/2) से जीत हासिल की।

2019 में फ्रेंच ओपन की सफलता और पिछले साल विंबलडन अपने नाम करने के बाद, इस 25 वर्षीय खिलाडी के लिए यह तीसरा स्लैम खिताब था। यह उपलब्धि हासिल करने वाली वह पहली ऑस्ट्रेलिआई बन गयी हैं और विश्व की दूसरी ऐसी महिला टेनिस खिलाडी। यह रिकॉर्ड अब तक सेरेना विलियम्स के नाम ही था जो तीनों सतहों पर ग्रैंड स्लैम जीतने वाली एकमात्र सक्रिय महिला खिलाड़ी रही हैं। यह रोचक मैच था शक्ति बनाम कौशल की लड़ाई।

1978 में क्रिस्टीन ओ’नील (Christine O’Neill)  के बाद बार्टी पहली ऑस्ट्रेलियाई महिला एकल चैंपियन हैं। वह 1980 में वेंडी टर्नबुल के बाद फाइनल में पहुंचने वाली पहली घरेलू खिलाड़ी बन गयी हैं। 25 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई खिलाडी और उनकी टीम पर काफी दबाव था और इस खिलाडी ने इस खिताब के साथ एक उल्लेखनीय तरीके से करियर में वापसी की है क्यूंकि 2015 और ’16 के हर ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट में बार्टी ने हिस्सा नहीं लिया था।

ऑस्ट्रेलिआई प्रधानमंत्री स्कॉट मोर्रिसन (PM Scott Morrison) ने ट्वीटर पर इस प्रतिभाशाली खिलाडी को बधाई दी।

 

बार्टी ने 28 वर्षीय कॉलिंस की पावर-हिटिंग का मुकाबला, अपने चक्करदार स्लाइस, पिनपॉइंट सर्विंग, गति और एक सहज फोरहैंड के साथ किया लेकिन कोलिन्स अपने शक्तिशाली ग्राउंडस्ट्रोक का इस्तेमाल करती रही जिससे बार्टी को थोड़ी परेशानी हुई। हालांकि, ऑस्ट्रेलियाई ने मजबूती से अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन सामने रखा और तीन सीधे सेटों में डेनियल कॉलिन्स को हराकर ऑस्ट्रेलियन ओपन (Australian Open) खिताब को अपने  नाम किया और ऑस्ट्रेलियन ओपन के इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में अपना नाम लिखवा लिया ।

 

 

 

.

About the author

Surubhi Sharma

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]