शनिवार, दिसम्बर 14, 2019

शिवसेना का हाल कर्नाटक के कुमारस्वामी जैसा होगा : भाजपा नेता

Must Read

मानव विकास के मामले में पाकिस्तान दक्षिण एशिया में भी फिसड्डी

मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) की ताजा रैंकिंग में पाकिस्तान के बीते साल के मुकाबले एक स्थान और पीछे खिसकर...

वनडे सीरीज में टी-20 विश्व कप की तैयारियों पर होगा ध्यान : भरत अरुण

भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने कहा है कि बेशक भारत रविवार से विंडीज के खिलाफ तीन...

सलमान खान की पटकथा पर कभी भरोसा नहीं करते पिता सलीम खान

सलमान खान ने कहा कि उनके पिता और प्रसिद्ध पटकथा लेखक सलीम खान अपने सुपरस्टार बेटे की पटकथा पर...
नई दिल्ली, 11 नवंबर, (आईएएनएस)। महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी उठापटक के बीच भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने यहां सोमवार को कहा कि शिवसेना ने जिस रास्ते को अख्तियार किया है, उसका भी हाल कर्नाटक के कुमारस्वामी जैसा हो जाएगा।

भाजपा नेता ने शिवसेना के साथ चुनाव पूर्व किए गए गठबंधन पर अफसोस जाहिर करते हुए आईएएनएस से कहा, जब शिवसेना के साथ हमें यही दिन देखना था तो बेहतर होता कि पार्टी सभी सीटों पर अकेले चुनाव लड़ती। जीत-हार अपनी जगह, कम से कम हर सीट पर अपने नेताओं को तो चुनाव लड़ने का मौका मिलता।

उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव भाजपा-शिवसेना ने गठबंधन के तहत लड़ा था। गठबंधन के तहत भाजपा को 164 सीटें मिली थी और शिवेसना को 124 सीटें मिली थीं। गठबंधन ने चुनाव में जीत दर्ज की, लेकिन दोनों के बीच मुख्यमंत्री पद और सत्ता में भागीदारी के अनुपात को लेकर सोमवार को अलगाव हो गया। अब शिवसेना राकांपा और कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने जा रही है।

भाजपा नेता ने शिवसेना के इस कदम पर कहा, हम तो समझते थे कि हिंदुत्व की समान विचारधारा के कारण कभी शिवसेना गैर भाजपा दलों की तरफ मुंह उठाकर देखेगी भी नहीं। पार्टी को लगा था कि शिवसेना पहले की तरह चिर-परिचित नखरे दिखा रही है। मगर ये नखरे एक दिन धोखेबाजी में बदल जाएंगे, इसकी तो उम्मीद नहीं थी। इनका हाल भी कर्नाटक के कुमारस्वामी की तरह होगा।

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 के 24 अक्टूबर को आए नतीजे में भाजपा को 105 सीटें मिलीं। जबकि शिवसेना को 56 सीटों पर जीत मिली। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी राकांपा ने 54 सीटें जीती, और कांग्रेस की झोली में 44 सीटें आईं।

इसके पहले 2014 के विधानसभा चुनाव में भाजपा और शिवसेना अलग-अलग चुनाव लड़ी थीं। भाजपा ने तब 122 सीटें जीती थी, और शिवसेना को 63 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इस बार भाजपा की 17 सीटें कम हो गईं, और शिवसेना की भी सात सीटें घट गईं।

अब शिवसेना के गठबंधन तोड़ देने के बाद भाजपा को लगता है कि यदि वह अकेले ही सभी सीटों पर चुनाव लड़ी होती तो शायद अधिक सीटों पर जीत दर्ज कराती।

बहरहाल, 56 विधायकों वाली शिवसेना राकांपा के 54 व कांग्रेस के 44 विधायकों के समर्थन से सरकार बनाने के लिए तैयार है। लेकिन अभी कांग्रेस उसे समर्थन देने का अंतिम निर्णय नहीं ले पाई है। आदित्य ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना के एक प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार शाम राज्यपाल बी.एस. कोश्यारी से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश किया और सरकार गठन के लिए लिए आवश्यक विधायकों का समर्थन पत्र पेश करने के लिए समय मांगा। लेकिन कोश्यारी ने समय देने से इंकार कर दिया है। गेंद अब राज्यपाल के पाले में है और देखना है कि वह क्या निर्णय लेते हैं। और अब कांग्रेस का क्या कदम होता है।

–आईएएनएस

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

मानव विकास के मामले में पाकिस्तान दक्षिण एशिया में भी फिसड्डी

मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) की ताजा रैंकिंग में पाकिस्तान के बीते साल के मुकाबले एक स्थान और पीछे खिसकर...

वनडे सीरीज में टी-20 विश्व कप की तैयारियों पर होगा ध्यान : भरत अरुण

भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने कहा है कि बेशक भारत रविवार से विंडीज के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज की...

सलमान खान की पटकथा पर कभी भरोसा नहीं करते पिता सलीम खान

सलमान खान ने कहा कि उनके पिता और प्रसिद्ध पटकथा लेखक सलीम खान अपने सुपरस्टार बेटे की पटकथा पर कभी भरोसा नहीं करते। 'दबंग...

हम नए नागरिकता कानून के खिलाफ हैं : दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि उनकी पार्टी नागरिकता संशोधन विधेयक (कैब) के खिलाफ है, जो अब कानून बन गया...

महंगाई जनित सुस्ती पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहती : वित्त मंत्री नर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को महंगाई जनित सुस्ती (स्टैगफ्लेशन) पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि मैंने सुना है...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -