मंगलवार, सितम्बर 17, 2019

रोहिंग्या मुस्लिमों की शिनाख्त कर वापस बुलाएगा म्यांमार

Must Read

सोलोमन द्वीप ने थाईवान के बदले चीन संग राजनयिक संबंध स्थापित किए : ह्वा छुनइंग

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ह्वा छुनइंग ने 16 सितंबर को इस बात पर संवाददाताओं...

अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक आयोजित

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। 2019 अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक 16 सितंबर को चीन के शानतोंग प्रांत के...

बिहार के एक गांव में भगवान की तरह पूजे जाते हैं मोदी

कटिहार, 17 सितंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके 69वें जन्मदिन पर देश और विदेश से शुभकामना संदेश तो...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

पिछले कुछ समय से विश्व भर में चर्चित रोहिंग्या मुस्लिम विवाद पर अब म्यांमार की सरकार ने चुप्पी तोड़ी है। वरिष्ठ नेता आंग सान सु की ने आज कहा कि म्यांमार भी इस मुद्दे पर चिंतित है और बहुत जल्द वह सभी शरणार्थियों को वापस अपने देश बुलाने की कोशिश करेगा।

पिछले महीने की 25 तारीख से रोहिंग्या मुस्लिम म्यांमार को छोड़कर पड़ोसी देशों में शरण ले रहे हैं। इस दौरान कई लोगों ने म्यांमार में होने वाले अत्याचारों की आपबीती सुनाई। लोगों ने बताया कि किस तरह सेना ने उनके घर जलाकर उन्हें देश छोड़ने पर मजबुर कर दिया था।

इसके बाद पुरे विश्व में म्यांमार सरकार को लेकर रोष पैदा हो गया था। संयुक्त राष्ट्र ने तुरंत म्यांमार सरकार से रोहिंग्या को वापस बुलाने की बात कही। अमेरिका, ब्रिटेन समेत सभी बड़े देशों ने भी इस मुद्दे पर म्यांमार सरकार और सेना को जिम्मेदार ठहराया था।

अंतराष्ट्रीय स्तर पर इस तरह अपने देश की किरकिरी होते देख सु की ने इसपर अपनी चुप्पी तोड़ने की ठानी। सु की ने अपने बयान में कहा कि म्यांमार सरकार भी रोहिंग्या मुद्दे पर उतनी ही चिंतित है, जितना बाकी विश्व। लेकिन उन्होंने कहा कि रोहिंग्या समुदाय के लोगों ने आतंकवादियों के साथ मिलकर म्यांमार में कई जगह हमले करवाए हैं।

सु की ने कहा कि देश में रह रहे सभी मुस्लिमों को इससे प्रताड़ित नहीं होना पड़ा है। अभी भी लाखों मुस्लिम शांति से म्यांमार में रह रहे हैं। सु की ने कहा कि जो लोग देश छोड़कर गए हैं, हम उनसे बात करेंगे और समस्या को समझने की कोशिश करेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार पूरी कोशिश करेगी कि उनकी हर समस्या का समाधान निकाला जाए।

इसके अलावा सु की ने अंतराष्ट्रीय संगठनों पर जमकर हमला बोला। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र को निशाना बनाते हुए कहा कि हमने किसी तरह के मानवीय अधिकार को नहीं तोडा है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार को आये अभी सिर्फ 18 महीने हुए हैं और हम शांति बनाये रखने की पूरी कोशिश कर रहे हैं।

इस मसले को सुलझाने पर सु की ने कहा कि हम बहुत जल्द एक प्रक्रिया शुरू करेंगे जिसके तहत जो भी लोग पलायन करके दूसरे देश गए हैं, उनकी शिनाख्त कर उन्हें वापस लाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार किसी जाती या धर्म के लोगों के खिलाफ नहीं है। उनकी तो यह सोच है कि म्यांमार में लोग जाती और धर्म के भेदभाव से दूर रहे।

सु की के इस फैसले से रोहिंग्या मुस्लिमों को जरूर रहत मिलेगी। बड़ी मात्रा में रोहिंग्या इस समय बांग्लादेश, मलेशिआ और भारत में रह रहे हैं। इनके देखभाल के लिए भारत और बांग्लादेश की सरकार ने मिलकर राहत शिविर बनाये थे जिनमे खाने-पीने एवं रहने से सम्बंधित सभी वस्तुओं को उपलब्ध कराया था।

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

सोलोमन द्वीप ने थाईवान के बदले चीन संग राजनयिक संबंध स्थापित किए : ह्वा छुनइंग

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ह्वा छुनइंग ने 16 सितंबर को इस बात पर संवाददाताओं...

अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक आयोजित

बीजिंग, 17 सितम्बर (आईएएनएस)। 2019 अंतर्राष्ट्रीय ओजोन परत संरक्षण स्मारक बैठक 16 सितंबर को चीन के शानतोंग प्रांत के चिनान शहर में आयोजित हुई।...

बिहार के एक गांव में भगवान की तरह पूजे जाते हैं मोदी

कटिहार, 17 सितंबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके 69वें जन्मदिन पर देश और विदेश से शुभकामना संदेश तो मिल ही रहे हैं, उनके...

मोदी के जन्मदिन के शोर में दब गई सरदार सरोवर प्रभावितों की आवाज : मेधा

भोपाल, 17 सितंबर (आईएएनएस)। नर्मदा बचाओ आंदोलन की अगुवा मेधा पाटकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके समर्थकों पर बड़ा हमला बोला है, उनका...

सऊदी में तेल संयंत्रों पर हमले का भारतीय अर्थव्यस्था पर पड़ सकता है असर

नई दिल्ली, 17 सितंबर (आईएएनएस)। यमन के ईरान समर्थित विद्रोही समूह हौती ने शनिवार को सऊदी अरब के अबक्विक संयंत्र और खुरियास तेल क्षेत्र...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -