मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

DoT ने रिलायंस कम्युनिकेशन एवं जिओ के बीच स्पेक्ट्रम ट्रेडिंग सोदे को किया नामंजूर

Must Read

दिल्ली अनाज मंडी अग्निकांड : सीबीआई जांच, न्यायिक जांच की याचिका खारिज

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को अनाज मंडी अग्निकांड की न्यायिक और सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका खारिज...

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी....

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

मंगलवार को टेलिकॉम डिपार्टमेंट (DoT) ने रिलायंस कम्युनिकेशन एवम रिलायंस जिओ इन्फोकोम को बताया की ये इनके बीच होने वाले स्पेक्ट्रम ट्रेडिंग के सौदे को मंजूरी नहीं दे सकती है क्योंकि यह उनके दिशानिर्देशों के अंतर्गत नहीं है।

नामंजूरी का क्या है कारण ?

यह फैसला टेलीकम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट ने जिओ द्वारा लिखा गया लैटर मिलने के बाद लिया जिसमे लिखा गया था की रिलायंस की पहले की एयरवेव्स पर बकाया राशि के लिए ज़िम्मेदार नहीं होगा। यह सरकार के स्पेक्ट्रम ट्रेडिंग मापदंडों  के अनुसार नहीं है, ओ निर्धारित करता है की खरीदार ही विक्रेता की बकाया राशि के लिए ज़िम्मेदार होगा।

DoT के अधिकारियों का इस सौदे पर बयान :

जब इस सौदे की नामंजूरी के बारे में टेलीकम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट के अधिकारीयों से पुचा गया तो उन्होंने कहा की “ट्रेडिंग के मापदंडों के अनुसार हम खरीददार या विक्रेता में से किसी से भी बकाया राशि भरने को कह सकते हैं लेकिन जिओ ने ऐसा करने से इनकार कर दिया है तो यह मापदंडों के खिलाफ है एवं हम इस डील को मंजूरी नहीं दे सकते हैं।”

उन्होंने यह भी कहा “अब इसके बारे में जिओ को फैसला लेना है एवं हमें सुचना देनी है। तब तक हम इस सौदे को आगे नहीं बढ़ा रहे हैं।”

इस सौदे के खारिज होने का कंपनियों पर असर :

शेयर में गिरावट :

मंगलवार को इस सौदे के खारिज होने की वजह से बुधवार को शुरूआती कारोबार में रिलायंस कम्युनिकेशन के शेयर में 12 फीसदी की गिरावट दर्ज कि गयी है। इससे अनिल अंबानी की कंपनी को एक बड़ा झटका लगा है।

एरिक्सन की डील की नाकामयाबी :

इसी के साथ इस नामंजूरी कि वजह से रिलायंस कम्युनिकेशन एरिक्सन के साथ जो सौदा करने जा रहा था उसे भी नाकामयाबी मिलेगी। इस सौदे से वह स्वीडिश टेलिकॉम कम्पनी को 550 करोड़ भुगतान करने थे लेकिन अब नामंजूरी के चलते यह संभव नहीं है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली अनाज मंडी अग्निकांड : सीबीआई जांच, न्यायिक जांच की याचिका खारिज

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को अनाज मंडी अग्निकांड की न्यायिक और सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका खारिज...

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी. प्रजापति ने लोधी को उच्च...

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी फिल्मों के लिए जाने जाते...

चिली का सैन्य विमान लापता, 38 लोग थे सवार

अंटार्कटिका जा रहा चिली का एक सैन्य विमान सोमवार को लापता हो गया। विमान में 38 लोग सवार थे। देश की वायु सेना ने...

लोकसभा में 311 मतों के समर्थन के साथ पारित हुआ नागरिकता संशोधन विधेयक

लोकसभा में आखिरकार सोमवार की आधी रात के बाद नागरिकता संशोधन विधेयक पारित कर दिया। जिसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने वाले गैर-मुस्लिम...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -