मंगलवार, अक्टूबर 15, 2019

DoT ने रिलायंस कम्युनिकेशन एवं जिओ के बीच स्पेक्ट्रम ट्रेडिंग सोदे को किया नामंजूर

Must Read

मप्र : भाजपा के बागी विधायक पार्टी दफ्तर पहुंचे

भोपाल, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बागी विधायक नारायण त्रिपाठी मंगलवार को पार्टी दफ्तर पहुंचे और...

चीन गरीबी उन्मूलन के लक्ष्य को साकार करेगा

बीजिंग, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। चीनी राज्य परिषद के गरीबी उन्मूलन कार्यालय के प्रधान ल्यू योंगफू ने हाल ही में...

मारुति सुजुकी ने बीते वित्त वर्ष में सीएसआर पर 154 करोड़ रुपया खर्च किया

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश की प्रमुख ऑटोमोबाइल कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने मंगलवार को कहा कि उसने...
विकास सिंह
विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

मंगलवार को टेलिकॉम डिपार्टमेंट (DoT) ने रिलायंस कम्युनिकेशन एवम रिलायंस जिओ इन्फोकोम को बताया की ये इनके बीच होने वाले स्पेक्ट्रम ट्रेडिंग के सौदे को मंजूरी नहीं दे सकती है क्योंकि यह उनके दिशानिर्देशों के अंतर्गत नहीं है।

नामंजूरी का क्या है कारण ?

यह फैसला टेलीकम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट ने जिओ द्वारा लिखा गया लैटर मिलने के बाद लिया जिसमे लिखा गया था की रिलायंस की पहले की एयरवेव्स पर बकाया राशि के लिए ज़िम्मेदार नहीं होगा। यह सरकार के स्पेक्ट्रम ट्रेडिंग मापदंडों  के अनुसार नहीं है, ओ निर्धारित करता है की खरीदार ही विक्रेता की बकाया राशि के लिए ज़िम्मेदार होगा।

DoT के अधिकारियों का इस सौदे पर बयान :

जब इस सौदे की नामंजूरी के बारे में टेलीकम्यूनिकेशन डिपार्टमेंट के अधिकारीयों से पुचा गया तो उन्होंने कहा की “ट्रेडिंग के मापदंडों के अनुसार हम खरीददार या विक्रेता में से किसी से भी बकाया राशि भरने को कह सकते हैं लेकिन जिओ ने ऐसा करने से इनकार कर दिया है तो यह मापदंडों के खिलाफ है एवं हम इस डील को मंजूरी नहीं दे सकते हैं।”

उन्होंने यह भी कहा “अब इसके बारे में जिओ को फैसला लेना है एवं हमें सुचना देनी है। तब तक हम इस सौदे को आगे नहीं बढ़ा रहे हैं।”

इस सौदे के खारिज होने का कंपनियों पर असर :

शेयर में गिरावट :

मंगलवार को इस सौदे के खारिज होने की वजह से बुधवार को शुरूआती कारोबार में रिलायंस कम्युनिकेशन के शेयर में 12 फीसदी की गिरावट दर्ज कि गयी है। इससे अनिल अंबानी की कंपनी को एक बड़ा झटका लगा है।

एरिक्सन की डील की नाकामयाबी :

इसी के साथ इस नामंजूरी कि वजह से रिलायंस कम्युनिकेशन एरिक्सन के साथ जो सौदा करने जा रहा था उसे भी नाकामयाबी मिलेगी। इस सौदे से वह स्वीडिश टेलिकॉम कम्पनी को 550 करोड़ भुगतान करने थे लेकिन अब नामंजूरी के चलते यह संभव नहीं है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

मप्र : भाजपा के बागी विधायक पार्टी दफ्तर पहुंचे

भोपाल, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बागी विधायक नारायण त्रिपाठी मंगलवार को पार्टी दफ्तर पहुंचे और...

चीन गरीबी उन्मूलन के लक्ष्य को साकार करेगा

बीजिंग, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। चीनी राज्य परिषद के गरीबी उन्मूलन कार्यालय के प्रधान ल्यू योंगफू ने हाल ही में एक संगोष्ठी में कहा कि...

मारुति सुजुकी ने बीते वित्त वर्ष में सीएसआर पर 154 करोड़ रुपया खर्च किया

नई दिल्ली, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। देश की प्रमुख ऑटोमोबाइल कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने मंगलवार को कहा कि उसने वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान...

पाकिस्तान में विस्फोट, पुलिसकर्मी की मौत, 11 घायल

इस्लामाबाद, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। पाकिस्तान के दक्षिण पश्चिम बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क्वेटा में मंगलवार को अज्ञात आतंकवादियों द्वारा किए गए विस्फोट में एक...

8वां विश्व पर्यटन आर्थिक मंच मकाओ में आयोजित

बीजिंग, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। 8वां विश्व पर्यटन आर्थिक मंच 14 अक्टूबर को मकाओ में उद्घाटित हुआ। देशी-विदेशी अतिथियों ने कहा कि पर्यटन वैश्विक आर्थिक-व्यापारिक...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -