Tue. Apr 16th, 2024
    अमेरिका इजरायल यरूशलम फिलीस्तीन

    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बुधवार के दिन यरूशलम को इजरायल की राजधानी घोषित करने के बाद उन्हें एक तरफ से प्रशंसा व दूसरी तरफ से निंदा व धमकियां दी जा रही है।

    ट्रम्प के इस निर्णय की इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने प्रशंसा करते हुए कहा है कि यह एक ऐतिहासिक दिन बन गया है। बेंजामिन ने ट्रम्प के इस कदम को शांति की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बताया है।

    लेकिन ट्रम्प के यरूशलम को इजरायल की राजधानी घोषित करने के बाद फिलीस्तीन ने डोनाल्ड ट्रम्प की कड़ी निंदा की है। फिलिस्तीनियों ने इस कदम की निंदा करते हुए कहा कि यह शांति मध्यस्थता के रूप में वाशिंगटन की भूमिका को कम करने वाला है।

    इजरायली पीएम ने ट्रम्प के निर्णय का किया स्वागत

    इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने वीडियो संदेश में कहा कि ट्रम्प के निर्णय ने ऐतिहासिक दिन का निर्माण किया है और यह शांति की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

    उन्होंने अमेरिकी दूतावास के अलावा अन्य देशों के दूतावासों को भी यरूशलम में जल्द ही स्थापित किए जाने का अनुरोध किया। बेंजामिन ने कहा कि यरूशलम के पवित्र स्थलों तक कोई भी धर्म यहूदियों, ईसाइयों और मुसलमानों के समान पूजा करने की स्वतंत्रता सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी हमारी होगी।

    अमेरिका की शांति स्थापित करने की भूमिका खत्म- फिलीस्तीनी राष्ट्रपति

    फिलीस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने कहा कि यरूशलम को इजरायल की राजधानी घोषित करने के बाद अमेरिका की शांति स्थापित करने वाले देश की भूमिका खत्म हो चुकी है। ट्रम्प के इस निर्णय को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त नहीं है।

    गौरतलब है कि फिलीस्तीनियों को भविष्य में अपनी राजधानी पूर्वी यरूशलम चाहिए। जो कि फिलहाल इजरायल के कब्जे वाले वेस्ट बैंक और गाजा पट्टी में स्थित है।

    डोनाल्ड ट्रम्प यरूशलम इजरायल

    एक तरफ इजरायल जहां पूरे यरूशलम पर अपना अधिकार बताता है वहीं फिलीस्तीन यरूशलम के सिर्फ पूर्वी भाग पर अपना अधिकार स्थापित करना चाहता है।

    महमूद अब्बास ने ट्रम्प के निर्णय के बाद घोषणा करते हुए कहा कि अमेरिकी प्रशासन ने सभी अंतरराष्ट्रीय और द्विपक्षीय समझौतों और प्रस्तावों का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उल्लंघन किया है। ट्रम्प के इस निर्णय से शांतिपूर्वक चल रहा संघर्ष धार्मिक युद्ध में तब्दील करने की कोशिश है।

    गाजा पट्टी के ग्रुप हमास ने दी ट्रम्प को चेतावनी

    यरूशलम के गाजा पट्टी पर फिलीस्तीनी इस्लामवादी ग्रुप हमास ने कहा कि डोनाल्ड ट्रम्प के यरूशलम को इजरायल की राजधानी घोषित करने के बाद उनका यह कदम फिलिस्तीनी लोगों के खिलाफ उग्र आक्रामकता दिखाता है।

    इन्होंने अमेरिकी प्रभावों व इजरायल को इस क्षेत्र से दूर करने का आह्वान किया है। गौरतलब है कि इजरायल व फिलीस्तीन के बीच शांति वार्ता साल 2014 से रुकी हुई है।