शनिवार, दिसम्बर 7, 2019

मप्र : लोधी की विधायकी पर संशय बरकरार, भाजपा ने उठाए सवाल

Must Read

अल-अजीजिया मामले में नवाज शरीफ की अपील पर सुनवाई 18 दिसंबर को

इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने शनिवार को पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की अल-अजीजिया मामले में सजा के खिलाफ अपील...

लोकेश राहुल ने की युजवेंद्र चहल की टांग खींची

भारतीय टीम ने पहले टी-20 मैच में विंडीज को छह विकेट से हराया। भारत की इस जीत के हीरो...

मध्य अमेरिकी देशों के लिए सहायता रोकने पर पोम्पियो की आलोचना

मध्य अमेरिकी देशों में महिलाओं और बच्चों के लिए आवश्यक सहायता रोकने पर दो डेमोक्रेट सांसदों ने अमेरिकी विदेश...
भोपाल, 12 नवंबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधायकी पर संशय बरकरार है, क्योंकि भोपाल की विशेष अदालत से सुनाई गई सजा को उच्च न्यायालय से स्थगन मिल गया है। लेकिन विधानसभा सचिवालय से उनकी सदस्यता बहाल करने की अधिसूचना जारी नहीं हुई है। भाजपा लोधी की बहाली की अधिसूचना जारी न किए जाने पर सवाल उठा रही है।

पन्ना जिले की पवई विधानसभा सीट से निर्वाचित प्रहलाद लोधी को भोपाल की विशेष अदालत के न्यायाधीश सुरेंद्र सिंह ने तहसीलदार से मारपीट के मामले में दो साल कारावास की सजा सुनाई थी। इस सजा के ऐलान के बाद विधानसभा सचिवालय ने लोधी की सदस्यता खत्म किए जाने की अधिसूचना जारी की। बाद में लोधी की सजा पर जबलपुर उच्च न्यायालय से स्थगन मिल गया।

भाजपा लगातार दावा कर रही है कि लोधी की सदस्यता हाईकोर्ट से स्थगन मिलते ही बहाल हो गई है, और इस आशय की अधिसूचना विधानसभा सचिवालय को जारी करनी चाहिए। अधिसूचना जारी न किए जाने पर भाजपा लगातार ऐतराज जता रही है। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का आरोप है, हाईकोर्ट द्वारा सजा पर रोक लगाए जाने के आदेश का पालन नहीं किया जा रहा है। निचली अदालत ने जब फैसला सुनाया तो महज 24 घंटों में ही कार्रवाई कर दी।

भाजपा का प्रतिनिधिमंडल बुधवार को लोधी की सदस्यता बहाली के मसले पर राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात करेगा। इस प्रतिनिधिमंडल में प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा आदि शामिल रहेंगे।

विधानसभा के पूर्व प्रमुख सचिव भगवानदास इसराणी का कहना है, वर्तमान में विधानसभा की पवई सीट रिक्त है, क्योंकि अधिसूचना जारी की जा चुकी है। जब तक विधानसभा सचिवालय नई अधिसूचना जारी नहीं करता है तब तक यह सीट रिक्त ही रहेगी। चुनाव आयोग भी कोई निर्णय विधानसभा सचिवालय की राय से लेगा।

ज्ञात हो कि 31 अक्टूबर, 2019 को सांसदों, विधायकों के मामलों की सुनवाई कर रहे भोपाल के विशेष न्यायाधीश सुरेश सिंह की कोर्ट ने भाजपा विधायक प्रहलाद लोधी सहित 12 लोगों को बलवा, मारपीट और गाली-गलौज करने के मामले में दोषी करार देते हुए दो साल की जेल की सजा सुनाई थी और अलग-अलग 3,500 रुपये जुर्माना भी लगाया था।

— आईएएनएस

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

अल-अजीजिया मामले में नवाज शरीफ की अपील पर सुनवाई 18 दिसंबर को

इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने शनिवार को पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की अल-अजीजिया मामले में सजा के खिलाफ अपील...

लोकेश राहुल ने की युजवेंद्र चहल की टांग खींची

भारतीय टीम ने पहले टी-20 मैच में विंडीज को छह विकेट से हराया। भारत की इस जीत के हीरो रहे कप्तान विराट कोहली और...

मध्य अमेरिकी देशों के लिए सहायता रोकने पर पोम्पियो की आलोचना

मध्य अमेरिकी देशों में महिलाओं और बच्चों के लिए आवश्यक सहायता रोकने पर दो डेमोक्रेट सांसदों ने अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की आलोचना...

चीनी प्रयोगशाला में बनाया गया विश्व का पहला ‘सूअर व बंदर’ हाइब्रिड

एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया में पहली बार शोधकर्ता चीनी प्रयोगशाला में सूअर-बंदर हाइब्रिड (द्विजाति) पैदा करने में सक्षम रहे...

दिल्ली में ‘यूथ की आवाज’ सम्मेलन में एकजुट होंगे युवा चेंजमेकर

राष्ट्रीय राजधानी में होने वाले 'यूथ की आवाज' समिट में महिलाओं के खिलाफ हिंसा, ऋतुचक्र स्वास्थ्य प्रबंधन, जलवायु परिवर्तन, व्यक्तिगत आजादी, जैसे विषयों पर...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -