गुरूवार, नवम्बर 14, 2019

ब्रितानी जहाज में सवार भारतीयों की सुरक्षित रिहाई के लिए ईरान के संपर्क में है भारत

Must Read

कुलभूषण मामले में भारत से कोई डील नहीं : पाकिस्तान

इस्लामाबाद, 14 नवंबर (आईएएनएस)। पाकिस्तान ने गुरुवार को इस बात से स्पष्ट रूप से इनकार किया है कि भारतीय...

प्रख्यात गणितज्ञ को मिल न पाया उचित सम्मान (स्मृतिशेष : डॉ़ वशिष्ठ नारायण)

पटना, 14 नवंबर (आईएएनएस)। शिक्षा के क्षेत्र में देश और दुनिया में बिहार का नाम रौशन करने वाले प्रख्यात...

उप्र : बिना हेलमेट 17 बाइक सवार घायल

बांदा, 14 नवंबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में पिछले 24 घंटों के दरम्यान अलग-अलग सड़क हादसों में...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

भारतीय विदेश मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि “ब्रिटेन के तेल टैंकर पर सवार 18 भारतीयों की सुरक्षित रिहाई के लिए भारत ईरानी सरकार के संपर्क में हैं।” शुक्रवार को ईरान ने ब्रिटेन के एक तेल टैंकर को जब्त कर लिया था और दूसरे का रास्ता रोका था।

23 में से 18 भारतीय

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया कि “हम वारदात अधिक जानकारी को जुटा रहे हैं। हमारा मिशन भारत सरकार के साथ संपर्क में हैं, ताकि भारतीय नागरिकों की जल्द रिहाई और प्रत्यर्पण हो सके।”

टैंकर को जब्त करने के बाद ईरान ने आरोप लगाया कि ब्रितानी जहाज अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन कर रहा था। ईरान की नाव और जहाज के टकराने से किसी प्रकार की हताहत की खबर नहीं है। बोर्ड में 23 क्रू के सदस्य थे, इसमें भारतीय, रूस, फिलिपिनो के नागरिक थे।

एक अन्य टैंकर एमवी मेस्दार का रास्त्ता ईरान ने रोका था लेकिन बाद में नियमों का पालन की जानकारी के बाद सेना ने जहाज को जाने की अनुमति दे दी थी। ईरान और पश्चिमी देशों के बीच सम्बन्ध बिगड़ते जा रहे हैं और भारत-ईरान के सम्बन्ध अच्छे हैं।

गंभीर परिणाम भुगतने की दी चेतावनी

ब्रिटेन ने विदेश सचिव ने ईरान को गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। हंट ने चेतावनी दी कि “अगर जल्द ही स्टेन इम्पेरो की हालात को नहीं सुलझाया गया तो परिणाम गंभीर हो सकते हैं। ब्रिटेन अभी सैन्य विकल्प की तरफ नहीं देख रहा है। हम इस स्थिति के समाधान एक लिए कूटनीतिक तरीके की तरफ देख रहे हैं।”

इन वारदातों ने अंतरराष्ट्रीय चिंताओं को बढ़ा दिया है। अमेरिका ने सऊदी अरब में पहली बार सैनिको को भेजने की योजना बनायीं है। वांशिगटन और तेहरान के बीच बीते वर्ष से सम्बन्ध खराब होते जा रहे हैं, जब डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिका को परमाणु संधि से बाहर निकाल लिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

कुलभूषण मामले में भारत से कोई डील नहीं : पाकिस्तान

इस्लामाबाद, 14 नवंबर (आईएएनएस)। पाकिस्तान ने गुरुवार को इस बात से स्पष्ट रूप से इनकार किया है कि भारतीय...

प्रख्यात गणितज्ञ को मिल न पाया उचित सम्मान (स्मृतिशेष : डॉ़ वशिष्ठ नारायण)

पटना, 14 नवंबर (आईएएनएस)। शिक्षा के क्षेत्र में देश और दुनिया में बिहार का नाम रौशन करने वाले प्रख्यात गणितज्ञ डॉ़ वशिष्ठ नारायण सिंह...

उप्र : बिना हेलमेट 17 बाइक सवार घायल

बांदा, 14 नवंबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में पिछले 24 घंटों के दरम्यान अलग-अलग सड़क हादसों में 17 बाइक सवार घायल हो...

आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए खेलेंगे गौतम

नई दिल्ली, 14 नवंबर (आईएएनएस)। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) फ्रेंचाइजी किंग्स इलेवन पंजाब ने लीग के आगामी सीजन के लिए हरफनमौला खिलाड़ी कृष्णप्पा गौतम...

इंदौर टेस्ट : भारत ने बांग्लादेश को 150 रन पर समेटा

इंदौर, 14 नवंबर (आईएएनएस)। भारतीय गेंदबाजों ने यहां होल्कर स्टेडियम में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के पहले दिन गुरुवार को बांग्लादेश की...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -