मंगलवार, नवम्बर 19, 2019

नेपाल नें दी चीनी कंपनी को हाइड्रोप्रोजेक्ट की सौगात

Must Read

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

नेपाल सरकार 1200 मेगा वाट बूधी गंडकी हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट के इस कॉन्ट्रैक्ट का उपहार एक चीनी कंपनी गेज़होउबा को को दे रहा है। ऊर्जा मंत्री बर्षमान पुन ने बताया कि प्रधानमंत्री के पी ओली कि अगुवाई में सदन की बैठक में यह निर्णय लिया गया है।

उन्होंने कहा ऊर्जा मंत्री चीनी कंपनी के साथ बातचीत कर इस सौदे को औपचारिक जामा पहना देंगे। साल 2017 में तत्कालीन प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल कि अगुआई में इसी चीनी कंपनी के साथ हीड्रोप्रॉजेक्ट के सौदे पर हस्ताक्षर किये थे।

हालाँकि शेर बहादुर देबुआ कि अगुआई वाली सरकार ने इस सौदे को रद्द कर दिया था। देबुआ सरकार ने कहा था कि गेज़होबा के साथ सौदा पारदर्शी नहीं था। साथ ही उन्होंने ये ऐलान किया कि राज्य द्वारा चलाई जाने वाला यह प्रोजेक्ट नेपाल बिजली विभाग के अंतर्गत होगा।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि सदन की बैठक में निर्णय लिया कि नेपाल बिजली विभाग के साथ इस प्रोजेक्ट को रद्द करके चीनी कंपनी को दिया जा रहा है। इस परियोजना की अनुमानित लागत 2.5 बिलियन डॉलर थी लेकिन अब यह बढ़कर तीन बिलियन डॉलर हो गयी है।

प्रधानमंत्री ओली चीन के साथ नजदीकियां बढ़ा रहे हैं। हाल ही में उन्होंने चीन के साथ व्यापार और पारवहन के समझौते किये है। संसद में अधिक संख्या में सीट मिलने के बाद प्रधानमंत्री ने ऐलान किया था कि सत्ता के हस्तांतरण के बाद हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट नेपाल बिजली विभाग से लेकर चीनी कंपनी को दे दिया जायेगा।

भारत और नेपाल के बीच सम्बन्धो में अभी मनमुटाव चल रहा है इसका कारण नेपाली प्रधानमंत्री का वामपंथी विचारधारा का समर्थक होना भी माना जाता है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

राज्यसभा के सभापति एम.वेंकैया नायडू की सांसदों से अपील संसदीय प्रवर समिति की बैठक में शामिल हो

पिछले हफ्ते वायु प्रदूषण पर महत्वपूर्ण बैठक में विभिन्न सांसदों के गैरहाजिर होने की वजह से बैठक स्थगित होने...

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन से दिए क्रिकेट को अलविदा कहने के संकेत

आस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने सोमवार को कहा है पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज के बाद...

इलेक्टोरल बांड को लेकर प्रियंका गांधी का भाजपा सरकार पर हमला, कहा आरबीआई को दरकिनार कर मंजूरी दी गई

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को इलेक्टोरल बांड का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि इन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को दरकिनार करते...

मोइन अली ने कहा, आईपीएल जीतने के लिए आरसीबी नहीं रह सकती विराट कोहली और डिविलियर्स के भरोसे

इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी मोइन अली उन दो विदेशी खिलाड़ियों में से हैं जिन्हें रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आगामी...

श्रीलंका राष्ट्रपति चुनाव: गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी, भारत के लिए झटका

श्रीलंका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में गोटाबाया राजपक्षे की जीत पर पाकिस्तान के राजनैतिक गलियारों में खुशी जताई जा रही है। मीडिया में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -