मंगलवार, जनवरी 28, 2020

नेतन्याहू की जॉर्डन घाटी पर कब्जे का लिया चुनावी संकल्प, अरब नेशन लीग ने की निंदा

Must Read

ताइवान में कोरोनावायरस संबंधी मामले बढ़कर 4 हुए

ताइपे, 27 जनवरी (आईएएनएस)| ताइवान की एक और महिला के कोरोनोवायरस (Corona Virus) से संक्रमित होने की पुष्टि हुई...

अरविंद केजरीवाल के निर्वाचन क्षेत्र के 11 उम्मीदवारों की याचिका पर सुनवाई को हाईकोर्ट सहमत

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| दिल्ली हाईकोर्ट नई दिल्ली विधानसभा के लिए नामांकन करने से रोके गए 11 उम्मीदवारों...

आरएसएस का पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में

लखनऊ, 27 जनवरी (आईएएनएस)| राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा संचालित पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में इस...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

इजराइल के संसदीय चुनावो से कुछ दिनों पूर्व ही प्रधनामंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने जॉर्डन घाटी पर कब्ज़ा करने का संकल्प लिया था। इजराइल में 17 सितम्बर को चुनावो का आयोजन होना है इसमें नेतान्याहू दक्षिणपंथी पार्टी लिकुड का प्रतिनिधित्व करेगे।

इजराइल ने साल 1967 की छह दिनों की जंग में वेस्ट बैंक पर अधिग्रहण कर दिया था। जॉर्डन घाटी और उत्तरी डेड सागर वेस्ट बांका का हिस्सा है जिस पर इजराइल का कब्ज़ा है। बेंजामिन नेतान्याहू अभी सरकार का संरक्षण करने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि अप्रैल में चुनाव में वह बहुमत लाने में नाकाम हुए थे।

इजराइल के विपक्षियो ने इस बयान के खिलाफ कहा है कि यह जनता के मतों को हासिल करने की सिर्फ एक तिकड़म है। नेतान्याहू के बयान के बाद अरब लीग ने एक तत्काल सत्र को बुलाया था। जॉर्डन और मिस्र दो ही देश है जिन्होंने इजराइल के साथ शान्ति संधि पर हस्ताक्षर किये हैं।

अरब विदेश मंत्रियो ने बयान में कहा कि “उनका बयान एक खतरनाक और इजराइल का नया आक्रमक रुख है, इसका ऐलान का मकसद अंतररष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करना है।” इजराइल के मानव अधिकार समूह बित्सेलेम के मुताबिक, जॉर्डन घाटी और उत्तरी मृत सागर में फिलिस्तीनियों के करीब 65000 घर है और यहूदियों के 11000 है, जो वेस्ट बैंक का 30 फीसदी भाग है।

अमेरिका के राष्ट्रपति के दामाद जारेड कुशनर ने इजराइल और फिलिस्तीन दोनो से किसी भी कार्रवाई से पूर्व एक बार शांति समझौते को देखने का आग्रह किया था। कुशनर को मध्य पूर्व पालिसी पर सलाह देने के लिए प्रशासन ने नियुक्त किया था।

सऊदी अरब ने नेतान्याहू के चुनावी संकल्प की निंदा की है और इस्लामिक सहयोग संघठन से एक तत्काल सत्र बुलाने की मांग की थी। सऊदी अरब की शाही अदालत ने बयान जारी कर कहा कि “सऊदी इसकी आलोचना करता है और इजराइल के पीएम बेंजामिन नेतान्याहू के ऐलान को खारिज करता है।”

नेतान्याहू ने कहा कि “अगर वह दोबारा सत्ता पर वापसी करते है तो वह तुरंत वेस्ट बैंक के हिस्से पर अधिग्रहण कर लेंगे।अप्रैल में चुनावो के दौरान भी बेतान्यहू ने ऐसे ही बयान दिए थे और गठबंधन की सरकार बनाने में नाकामयाब हुए थे।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

ताइवान में कोरोनावायरस संबंधी मामले बढ़कर 4 हुए

ताइपे, 27 जनवरी (आईएएनएस)| ताइवान की एक और महिला के कोरोनोवायरस (Corona Virus) से संक्रमित होने की पुष्टि हुई...

अरविंद केजरीवाल के निर्वाचन क्षेत्र के 11 उम्मीदवारों की याचिका पर सुनवाई को हाईकोर्ट सहमत

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| दिल्ली हाईकोर्ट नई दिल्ली विधानसभा के लिए नामांकन करने से रोके गए 11 उम्मीदवारों की याचिका पर सुनवाई को...

आरएसएस का पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में

लखनऊ, 27 जनवरी (आईएएनएस)| राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा संचालित पहला सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में इस साल अप्रैल में शुरू होगा।...

उत्तर प्रदेश: कानपुर पुलिस ने थाने में कराई प्रेमी युगल की शादी

कानपुर, 27 जनवरी (आईएएनएस)| कानपुर के जूही पुलिस स्टेशन के अंदर रविवार को एक प्रेमी युगल की शादी कराई गई है। इस दौरान शादी...

कांग्रेस ने अदनान सामी को पद्मश्री देने पर सवाल उठाया

नई दिल्ली, 27 जनवरी (आईएएनएस)| कांग्रेस ने गायक अदनान सामी को पद्म पुरस्कार देने के केंद्र सरकार के फैसले पर सवाल उठाया है। कांग्रेस...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -