मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

फ़ोन पर ईरान की घातक कार्रवाई के बारे में चर्चा करेंगे डोनाल्ड ट्रम्प और बेंजामिन नेतन्याहू

Must Read

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और इजराइल के राष्ट्रपति बेंजामिन नेतान्याहू गुरूवार को अपनी मौजूदा चिंता ईरान की शत्रुतापूर्ण कार्रवाई पर चर्चा की। व्हाइट हाउस के बयान के हवाले से सिन्हुआ ने बताया कि साझा दोनों नेता साझा राष्ट्रीय सुरक्षा हितों के द्विपक्षीय सहयोग पर चर्चा करेंगे। साथ ही ईरान के क्षेत्र में शत्रुतापूर्ण कार्रवाई से बचने के भी प्रयास किये जायेंगे।

इजराइल-अमेरिका वार्ता

नेतान्याहू ने डोनाल्ड ट्रम्प के साथ टेलीफोन पर बातचीत के बाबत ट्वीट भी किया था। उन्होंने ट्वीट किया कि “मैंने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ बातचीत की थी। हमने क्षेत्रीय विकास और सुरक्षा मामलो पर चर्चा की थी, इसमें सबसे अधिक ईरान के बारे में था। ईरान के खिलाफ प्रतिबंधों को बढाने के ट्रम्प के इरादे के लिए मैंने उन्हें शुक्रिया कहा था।”

अमेरिका और ईरान के बीच सम्बन्ध काफी वक्त से तनावग्रस्त हैं क्योंकि अमेरिका ने साल 2015 में हुई परमाणु संधि से खुद को हटा लिया था। इसके बाद तेहरान पर सभी प्रतिबंधों को वापस थोप दिया था। उन्होंने आरोप लगाया कि ईरान आतंकवाद और संघर्षों का समर्थन करता है।

बुधवार को डोनाल्ड ट्रम्प ने आरोप लगाया कि ईरान काफी लम्बे अरसे से गुपचुप तरीके से यूरेनियम का उत्पादन कर रहा है। साथ ही जल्द तेहरान पर माजिद प्रतिबंधो को थोपने की धमकी दी थी। इसी दिन अमेरिका ने अंतरराष्ट्रीय परमाणु उर्जा एजेंसी की इमरजेंसी बैठक को बुलाया था। ताकि 2015 की परमाणु संधि की मौजूदा स्थिति पर चर्चा की जा सके।

इस संधि पर पांच देशों ने हस्ताक्षर किये थे, इसमें रूस, अमेरिका, ब्रिटेन, चीन और जर्मनी थे और यूरोपीय संघ था। इसका मकसद ईरान के नागरिक  उर्जा कार्यक्रम पर अंकुश लगाना था और भविष्य में तेहरान को परमाणु हथियारों को विकसित करने से रोकना था।

आईएईए के जांचकर्ताओं ने 1 जुलाई को निरीक्षित किया कि “ईरान का संवर्धन यूरेनियम 202.8 किलोग्राम से अधिक गया है। अभी यह 20 फीसदी से काफी कम है और यूरेनियम हथियारों के निर्माण के लिए 90 प्रतिशत की जरुरत होती है।”

बीते दो हफ्तों में ईरान ने परमाणु संधि के दो नियमों का उल्लंघन किया है। अमेरिका बातचीत के लिए ईरान को अलग थलग कर मजबूर करना चाहता है।अमेरिका ने कहा कि “अंतरराष्ट्रीय समुदाय को ईरानी शासन को उत्तरदायी ठहराना होगा।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए रिकॉर्ड किया तेलुगू गाना

सिंगर बी प्रैक ने महेश बाबू की फिल्म के लिए अपना पहला तेलुगू गाना 'सूर्योदय चंद्रुडिवो' रिकॉर्ड किया है।...

आईआईटी-मद्रास के 831 छात्रों की हुई कैंपस प्लेसमेंट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटी-एम) के छात्रों को कैंपस प्लेसमेंट के पहले चरण के दौरान 184 कंपनियों द्वारा कुल 831 छात्रों को नौकरियों के...

दक्षिण अफ्रीका का मदद करने को तैयार हैं गैरी कर्स्टन

पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारत को विश्व विजेता बनाने वाले कोच गैरी कस्टर्न ने कहा है कि वह जरूत पड़ने पर दक्षिण अफ्रीका की...

दुष्कर्म की घटनाओं पर प्रधानमंत्री चुप क्यों? : राहुल गांधी

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने यहां सोमवार को सवाल उठाया कि देश में दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुप क्यों...

भारतीय जवानों को हनीट्रैप में फंसाने का प्रयास कर रही आईएसआई : रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने भारतीय सशस्त्र बलों के अधिकारियों को फंसाने के लिए हनीट्रैप को एक उपकरण के तौर पर...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -