शनिवार, नवम्बर 16, 2019

क्या डोनाल्ड ट्रम्प अफगानिस्तान दौरे पर जाने की योजना बना रहे हैं?

Must Read

केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान जारी करेंगे 20 राज्यों के पेयजल नमूनों की जांच रिपोर्ट

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान दिल्ली समेत देशभर में 20 राज्यों से लिए...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: पहले चरण के चुनाव के लिए मैदान में उतरे 206 उम्मदीवार

झारखंड में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में कुल 206 उम्मीदवार मैदान में हैं। पहले चरण में 30 नवंबर...

आईआरसीटीसी ने एक माह में सुविधा शुल्क के जरिए कमाए 63 करोड़ रुपए

  इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) ने सुविधा शुल्क से इस साल सिर्फ सितंबर माह में 63...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अमेरिका और अफगानिस्तान के चरमपंथी तालिबान के मध्य जारी जंग में रूस ने शांति वार्ता की बैठक का आयोजन किया था। हालांकि इस बैठक से कोई ख़ास नतीजे निकलकर नहीं आये हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प गुरूवार को अफगानिस्तान की यात्रा कर सकते हैं।

अफगानिस्तान में तैनात अमेरिकी सैनिकों को शुक्रिया अदा करते हुए डोनाल्ड ट्रम्प ने वायु सेना के सचिव से कहा कि में जल्द ही सैनिकों को अमेरिका में वापस देखूंगा या मुमकिन हैं, मैं सैनिकों से अफगानिस्तान में ही मुलाकात करूँ। उन्होंने कहा कोई नहीं जानता क्या होने वाला है।

हाल ही में जंगी इलाकों में अमेरिकी सैन्य कमांडर ने अपना नियमित दौरा किया था लेकिन सुरक्षा के लिहाज से ऐसी यात्राओं के लिए उच्च अधिकारियों को अनुमति नहीं दी जाती है। काफी समय से ट्रम्प ने अफगानिस्तान की यात्रा मुक्कमल नहीं  है। हालांकि उपराष्ट्रपति माइक पेन्स ने दिसम्बर में बगराम एयर बेस पर सैनिकों से मुलाकात के लिए पंहुचकर सबकी चौंका दिया था।

अफगानिस्तान में अमेरिका ने लगभग 14 हज़ार सैनिक तैनात किये हुए हैं। यह सैनिक अफगानिस्तान के सैनिकों को प्रशिक्षण में सहायता करते हैं साथ ही इस्लामिक स्टेट जैसे आतंकी समूहों के खिलाफ अभियान के बारे में निर्देश भी देते हैं। तालिबान के लगातार हमलों के बाद अमेरिका के सैनिक साल 2001 में इस अभियान का हिस्सा बने थे। तालिबान का सितम्बर 2011 में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए हमले में भी हाथ था।

हाल ही में रूस ने अफगानिस्तान में शांति और स्थिरता के लिए चरमपंथी तालिबान समूह के साथ शांति वार्ता का आयोजन किया था।

इस बैठक में भारत और अफगानिस्तान के गैर आधिकारिक स्तर के प्रतिनिधि शामिल हुए थे। तालिबान चाहता है कि अफगान सरकार को समर्थन करने वाले अमेरिकी सैनिकों को उनकी सरजमीं से बाहर फेंक दिया जाए। उनके मुताबिक जब तक अफगान की सरजमीं पर विदेशियों का कब्ज़ा है तब तक अफगान में शांति और समृद्धि मुमकिन नहीं है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान जारी करेंगे 20 राज्यों के पेयजल नमूनों की जांच रिपोर्ट

केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान दिल्ली समेत देशभर में 20 राज्यों से लिए...

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: पहले चरण के चुनाव के लिए मैदान में उतरे 206 उम्मदीवार

झारखंड में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में कुल 206 उम्मीदवार मैदान में हैं। पहले चरण में 30 नवंबर को मतदान होना है। निर्वाचन...

आईआरसीटीसी ने एक माह में सुविधा शुल्क के जरिए कमाए 63 करोड़ रुपए

  इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) ने सुविधा शुल्क से इस साल सिर्फ सितंबर माह में 63 करोड़ रुपये से ज्यादा की...

ओडिशा सरकार की बुकलेट के अनुसार महात्मा गांधी की हत्या महज एक दुर्घटना

ओडिशा सरकार की एक बुकलेट में महात्मा गांधी की हत्या को महज एक 'दुर्घटना' बताए जाने पर विवाद पैदा हो गया है। कांग्रेस व...

भारतीय महिला फुटबॉल टीम खिलाड़ी आशालता देवी ‘एएफसी प्येयर ऑफ दि इयर’ पुरस्कार के लिए नामांकित

भारतीय महिला फुटबाल टीम की खिलाड़ी लोइतोंगबम आशालता देवी को एशियन फुटबाल कनफेडरेशन (एएफसी) प्लेयर ऑफ द इयर पुरस्कार के लिए नामित किया गया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -