Sat. Feb 4th, 2023
    फिलीपीन्स आसियान चतुष्कोणीय बैठक

    फिलीपीन्स में आसियान शिखर सम्मेलन चल रहा है। यहां पर कई देशों के प्रमुख हिस्सा ले रहे है। रविवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फिलीपीन्स की राजधानी मनीला पहुंचे। यहां पर भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के बीच में चतुष्कोणीय वार्ता हुई।

    इस वार्ता में इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में आपसी सहयोग बढ़ाने व व्यापार को पारदर्शी और मुक्त रखने पर आधिकारिक चर्चा की गई। चीन की दक्षिणी चीन सागर में बढ़ती सैन्य गतिविधियों पर इन देशों ने चिंता जाहिर की।

    बैठक के बाद चार देशों की तरफ से इंडो-पैसिफिक क्षेत्र को लेकर बयान जारी किया गया। इस दौरान इस क्षेत्र में नियमों की पालना करने व अंतरराष्ट्रीय कानून का सम्मान करने का संकल्प लिया गया।

    इंडो-पैसिफिक क्षेत्र संबंधी वार्ता 

    इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में शांति, स्थिरता और समृद्धि को बढ़ावा देने के मुद्दों पर विचार विमर्श किया गया। इस दौरान दक्षिणी चीन सागर विवाद व आतंकवाद के मुद्दो पर भी चर्चा की गई।

    वहीं जापान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए कहा कि इंडो-पैसिफिक क्षेत्र के लिए हुई बैठक में अंतरराष्ट्रीय कानून का सम्मान किए जाने की बातचीत की गई। इसी तरह ऑस्ट्रेलिया व अमेरिका के विदेश मंत्रालयों ने भी इस चतुष्कोणीय बैठक के बाद बयान जारी किया।

    गौरतलब है कि चीन लगातार इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में अपनी सैन्य शक्तियों में इजाफा कर रहा है। जिस वजह से चीन का कई अन्य पड़ोसी देशों के साथ विवाद है। चीन वन वेल्ट वन रोड प्रोजेक्ट के जरिए दुनिया में अपना दबदबा बनाना चाहता है।

    इस चतुष्कोणीय बैठक में आतंकवाद की चुनौतियों से निपटने में सहयोग बढ़ाने पर भी चर्चा हुई और उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम के बारे में भी बात हुई। चारों देशों ने इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में अपनी प्रतिबद्धता को जताया।

    वहीं पीएम नरेन्द्र मोदी ने अमेरिका राष्ट्रपति के साथ द्विपक्षीय वार्ता भी की। इस दौरान दोनों नेताओं ने भारत-अमेरिका के बीच भविष्य में संबंध मजबूत करने को लेकर प्रतिबद्धता जताई।