बुधवार, नवम्बर 20, 2019

चीन-नेपाल मैत्री की जड़ मजबूत

Must Read

डोनाल्ड ट्रंप महाभियोग : यूक्रेन से ट्रंप के जांच के अनुरोध पर गवाहों को संदेह

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की जांच में चार मुख्य गवाहों ने इस पर संदेह व्यक्त किया है...

संसद शीतकालीन सत्र: गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा कि स्थानीय प्रशासन के सुझाव पर जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवा बहाल होगी

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में बुधवार को जम्मू एवं कश्मीर के हालात से संबंधित सवालों के जवाब...

महाराष्ट्र सरकार गठन: शिवसेना नेता संजय राउत की घोषणा, दिसंबर के पहले सप्ताह में बनेगी शिवसेना नेतृत्व वाली सरकार

शिवसेना सांसद संजय राउत ने यहां बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र में सरकार गठन पर मंडरा रहे बादल आगामी...
बीजिंग, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शनिवार को काठमांडू में नेपाली राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ मुलाकात की। दोनों ने यह घोषित किया कि चीन और नेपाल सहयोग के सिद्धांत पर विकास और समृद्धि उन्मुख रणनीतिक व सहयोगी साझेदार संबंधों का विकास करेंगे।

शी चिनफिंग ने कहा कि नेपाली जनता में चीन-नेपाल मैत्री की जड़ मजबूत है। हमारे बीच संबंध पड़ोसी देशों के बीच मैत्रीपूर्ण आवाजाहियों का आदर्श होता है। दोनों पक्षों को राजनीतिक संबंधों की नींव को और मजबूत कर चीन-नेपाल संबंधों के विकास का दीर्घकालीन लक्ष्य बनाना चाहिए। चीन हमेशा नेपाल को अपनी स्वाधीनता, प्रभुसत्ता और प्रादेशिक अखंडता की रक्षा करने के लिए कोशिशों का समर्थन करेगा। दोनों पक्षों को क्रॉस-हिमालयन इंटरकनेक्शन नेटवर्क का निर्माण और विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग का विस्तार करना चाहिए।

विद्या देवी भंडारी ने शी चिनफिंग का गर्मजोशी से स्वागत करते हुए कहा कि नेपाल चीन के आर्थिक विकास का अनुभव सीखना चाहता है। विश्वास है कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में चीनी राष्ट्र के महान पुनरोद्धार का लक्ष्य साकार किया जाएगा, जिससे नेपाल और इस क्षेत्र में शांति, विकास और समृद्धि को बढ़ाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि नेपाल और चीन के बीच रणनीतिक सहयोग के साझेदार संबंधों की स्थापना से दोनों के बीच पारंपरिक मैत्री को मजबूत किया जाएगा और द्विपक्षीय संबंधों को एक नये युग में पहुंचाया जाएगा। नेपाल चीन की निरंतर सहायता के लिए आभारी है और चीन की प्रभुसत्ता और प्रादेशिक अखंडता का समर्थन करता रहेगा। नेपाल अपनी भूमि में किसी भी बल के चीन विरोधी कार्रवाई की इजाजत नहीं देगा। नेपाल चीन की बेल्ट एंड रोड तथा क्रॉस-हिमालयन इंटरकनेक्शन नेटवर्क के निर्माण में भाग लेगा।

(साभार—चाइना रेडियो इंटरनेशनल, पेइचिंग)

— आईएएनएस

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

डोनाल्ड ट्रंप महाभियोग : यूक्रेन से ट्रंप के जांच के अनुरोध पर गवाहों को संदेह

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की जांच में चार मुख्य गवाहों ने इस पर संदेह व्यक्त किया है...

संसद शीतकालीन सत्र: गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा कि स्थानीय प्रशासन के सुझाव पर जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवा बहाल होगी

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में बुधवार को जम्मू एवं कश्मीर के हालात से संबंधित सवालों के जवाब में कहा कि नवगठित केंद्र...

महाराष्ट्र सरकार गठन: शिवसेना नेता संजय राउत की घोषणा, दिसंबर के पहले सप्ताह में बनेगी शिवसेना नेतृत्व वाली सरकार

शिवसेना सांसद संजय राउत ने यहां बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र में सरकार गठन पर मंडरा रहे बादल आगामी दिनों में जल्द ही छटने...

गायक दिलजीत दोसांझ ने अभिनेत्री गेल गेडॉट से की गोभी के पराठे बनाने की मांग

अभिनेता दिलजीत दोसांझ, एक प्रशंसक के तौर पर हॉलीवुड अभिनेत्री गेल गेडॉट के प्रति अपना प्यार जाहिर करने से कभी नहीं चूकते हैं। इस...

पेटा इंडिया के ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ चुने गए विराट कोहली

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को वर्ष 2019 के लिए पेटा इंडिया का पर्सन ऑफ द इयर चुना गया है। जानवरों की...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -