उत्तर कोरिया पर प्रतिबंधो को हटाने के लिए शी जिनपिंग ने डोनाल्ड ट्रम्प से किया आग्रह: चीन

शी जिनपिंग

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से उत्तर कोरिया पर प्रतिबंधों को हटाने का आग्रह किया था। दोनों नेताओं ने बीते महीने जापान में मुलाकात की थी। उत्तर कोरिया के निरंतर मिसाइल और परमाणु परिक्षण के बाद यूएन के सख्त प्रतिबंधो पर चीन ने भी दस्तखत किये थे लेकिन सुझाव दिया कि उत्तर कोरिया के अच्छे व्यवहार का इनाम में उसे प्रतिबंधो से निजात दिया जाये।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने पत्रकारों से कहा कि “शी ने ट्रम्प को उत्तर कोरिया पर चीन की स्थिति के बारे में बताया था जब वह जी-20 के शिखर सम्मेलन के इतर मुलाकात की थी।”

गेंग ने कहा कि “ओसाका में राष्ट्रपति ट्रम्प के साथ बैठक में राष्ट्रपति शी ने चीन पेनिन्सुला के मामले पर चीन की स्थिति के बारे में समझा दिया था। अमेरिका को लचीलेपन के लिए दिखाने के दबाव बनाया और उत्तर कोरियाई से आधे रास्ते में मुलाकात की थी, इसमें प्रतिबंधों को आसान करना भी शामिल था।”

शी और ट्रम्प दोनों ने उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन से हाल ही में जी-20 के सम्मेलन के इतर मुलाकात की थी। इस सम्मेलन के बाद डोनाल्ड ट्रम्प ने किम जोंग उन के साथ सेना रहित इलाके में मुलाकात की थी। अमेरिका उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को बंद होते हुए देखना चाहता है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बुधवार को ईरान पर आरोप लगाया कि वह लम्बे अरसे से गुपचुप तरीके से परमाणु संवर्धन कर रहे थे और अमेरिका जल्द ही उन पर प्रतिबंधो के भारी को बढ़ाएगा। तेहरान के परमाणु संधि के उल्लंघन करने पर यूएन के परमाणु निगरानीकर्ता के इमरजेंसी बैठक बुलवाई थी।

आईएईए के जांचकर्ताओं ने 1 जुलाई को निरीक्षित किया कि “ईरान का संवर्धन यूरेनियम 202.8 किलोग्राम से अधिक गया है। अभी यह 20 फीसदी से काफी कम है और यूरेनियम हथियारों के निर्माण के लिए 90 प्रतिशत की जरुरत होती है।”

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here