बुधवार, नवम्बर 20, 2019

अफगानिस्तान में हवाई हमले से नौ तालिबानी, आईएसआईएस आतंकवादियों की मौत

Must Read

संसद शीतकालीन सत्र: गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा कि स्थानीय प्रशासन के सुझाव पर जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवा बहाल होगी

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में बुधवार को जम्मू एवं कश्मीर के हालात से संबंधित सवालों के जवाब...

महाराष्ट्र सरकार गठन: शिवसेना नेता संजय राउत की घोषणा, दिसंबर के पहले सप्ताह में बनेगी शिवसेना नेतृत्व वाली सरकार

शिवसेना सांसद संजय राउत ने यहां बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र में सरकार गठन पर मंडरा रहे बादल आगामी...

गायक दिलजीत दोसांझ ने अभिनेत्री गेल गेडॉट से की गोभी के पराठे बनाने की मांग

अभिनेता दिलजीत दोसांझ, एक प्रशंसक के तौर पर हॉलीवुड अभिनेत्री गेल गेडॉट के प्रति अपना प्यार जाहिर करने से...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अफगानिस्तान में सिलसिलेवार हवाई हमले से तालिबान और इस्लामिक स्टेट के नौ आतंकवादियों की मौत हो गयी है। सैन्य अधिकारियो के हवाले से खम प्रेस ने रिपोर्ट प्रकाशित की कि “हवाई हमले नंगरहार के पूर्वी प्रान्त में किये गए थे। जहां इस्लामिक स्टेट के कुल पांच आतंकवादियों की मौत हुई थी और चार तालिबानी संचालक भी ढेर हो गए थे।”

चार तालिबानी संचालको को अफगानिस्तान के मध्य वारदाक प्रान्त में मार दिया गया था। अफगानिस्तान की सरकार बीते दो दशको से तालिबान के सतह जंग लड़ रही है और शान्ति की पहल नाकामयाब हुई है। जारी अस्थिरता के कारण समस्त देश में आतंकवादी समूहों में विस्तार हुआ है, इसमें आईएसआईएस भी शामिल है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा अफगानिस्तान की सरजमीं से अपने सैनिको की वापसी करने के ऐलान का तालिबान के स्वागत किया है। बीते महीने डोनाल्ड ट्रम्प ने तालिबान के साथ अफगानी शान्ति वार्ता को ख़त्म कर दिया था और समझौते को रद्द कर दिया दिया था।

क़तर के राजनीतिक दफ्तर में तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा कि “अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिको की घर वापसी के अमेरिकी राष्ट्रपति के ऐलान का हम स्वागत करते है।”

तालिबान ने काबुल में एक आतंकवादी हमले को अंजाम दिया था जिसमे एक अमेरिकी नागरिक सहित 12 लोगो की मौत हो गयी थी। तालिबानी प्रतिनिधि समूह बुधवार को इस्लामाबाद पंहुचा था और इस्लामाबाद के उच्च स्तर के नेताओं के साथ वार्ता की थी।

तालिबान का अफगानिस्तान पर नियंत्रण साल 1990 के दशक के अंत में था तब भारत के संबंध चरमपंथी समूह के साथ नहीं थे। पाकिस्तान उन चुनिंदा देशो में शामिल है जिसके तालिबान के नियंत्रण वाले अफगानिस्तान के साथ संबंध थे।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

संसद शीतकालीन सत्र: गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा कि स्थानीय प्रशासन के सुझाव पर जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवा बहाल होगी

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में बुधवार को जम्मू एवं कश्मीर के हालात से संबंधित सवालों के जवाब...

महाराष्ट्र सरकार गठन: शिवसेना नेता संजय राउत की घोषणा, दिसंबर के पहले सप्ताह में बनेगी शिवसेना नेतृत्व वाली सरकार

शिवसेना सांसद संजय राउत ने यहां बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र में सरकार गठन पर मंडरा रहे बादल आगामी दिनों में जल्द ही छटने...

गायक दिलजीत दोसांझ ने अभिनेत्री गेल गेडॉट से की गोभी के पराठे बनाने की मांग

अभिनेता दिलजीत दोसांझ, एक प्रशंसक के तौर पर हॉलीवुड अभिनेत्री गेल गेडॉट के प्रति अपना प्यार जाहिर करने से कभी नहीं चूकते हैं। इस...

पेटा इंडिया के ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ चुने गए विराट कोहली

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को वर्ष 2019 के लिए पेटा इंडिया का पर्सन ऑफ द इयर चुना गया है। जानवरों की...

हिरासत में लिए गए कश्मीरी नेताओं के परिजनों की शिकायत, सुविधाओं के आभाव में हैं कश्मीरी नेता

हिरासत में लिए गए कश्मीरी नेताओं के परिवार के सदस्यों ने शिकायत की है कि जिस एमएलए हॉस्टल को उप-जेल में तब्दील कर दिया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -